fbpx
Preparation of the capital's impenetrable safety armorट्रेन्डिंग 

राजधानी की अभेद्य सुरक्षा कवच बनाने की तैयारी

दिल्ली की अभेद्य सुरक्षा कवच में दुनिया की सबसे बेहतरीन मिसाइल

दिल्ली न्यूज़ (Delhi News): सरकार अब देश की राजधानी दिल्ली को एक अभेद्य सुरक्षा कवच देने की तैयारी में है. यह कवच पांच लेयर का होगा. इस पांचो लेयर की सुरक्षा तैनात करने के बाद दिल्ली के चारों तरफ अभेद्य किला बन जाएगा. यह अब तक के विश्व की सबसे बेहतरीन सुरक्षा प्रणालियों में से एक होगी. इसकी तैनाती के बाद दिल्ली किसी भी तरह के हवाई हमलों से सुरक्षित रहेगा. चाहे हमला मिसाइल से हो, ड्रोन से हो या फाइटर जेट से.

कौनसी  मिसाइल होगी इस कवच  में?

वैसे तो दिल्ली के इस सुरक्षा कवच में प्रस्तावित पांच स्तर की मिसाइल सुरक्षा प्रणाली होगी.

पहला सुरक्षा कवच पृथ्वी मिसाइल

पहली एडवांस्ड एयर डिफेंस (एएडी) और पृथ्वी एयर डिफेंस इंटरसेप्टर (पीएडी) मिसाइल तैनात होंगे. दोनों मिलकर 15 से 25 और 80 से 100 किमी की दूरी तक आसमान से आने वाली मिसाइलों को नष्ट कर देंगे. 2000 किमी रेंज से आने वाली मिसाइलों को गिराने के लिए 5556 किमी प्रतिघंटा की गति से हमला करने वाली मिसाइलों का सिस्टम भी तैयार है. भविष्य में 5000 किमी रेंज से आने वाली मिसाइलों को ध्वस्त करने के लिए 8643 किमी प्रतिघंटा की गति से हमला करने वाली मिसाइलों का सिस्टम बन रहा है.

दूसरे लेयर में रूस की एस-400 मिसाइस सिस्टम

इस मिसाइल सिस्टम की रेंज 120, 200, 250 और 380 किमी है. इनकी डिलीवरी अक्टूबर 2020 से अप्रैल 2023 के बीच होगी. एस-400 सिस्टम 380 किमी की सीमा में बम, जेट्स, जासूसी विमान, मिसाइल और ड्रोन का पता लगाने और उन्हें नष्ट करने में सक्षम है.

तीसरे लेयर में बराक-8 मिसाइल सिस्टम

इस लेयर में भारत के डीआरडीओ और इजरायल द्वारा विकसित मध्यम और लंबी दूरी की बराक-8 मिसाइल डिफेंस सिस्टम 70 से 100 किमी तक की दूरी तक दुश्मनों के हमलों को हवा में खत्म कर देगा.

चौथे लेयर में स्वदेशी आकाश मिसाइल सिस्टम

इस लेयर में स्वदेशी मिसाइल आकाश का डिफेंस सिस्टम दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के आसमान की तरफ से सुरक्षा करेगा. इसकी रेंज 25 किमी है. यह मिसाइलें लड़ाकू विमानों में भी लैस हो जाते हैं. भारतीय वायुसेना 10900 करोड़ रुपए से आकाश मिसाइल डिफेंस सिस्टम के 15 स्क्वाड्रन तैनात करेगा. वहीं, भारतीय सेना 14800 करोड़ रुपए से आकाश-2 मिसाइल डिफेंस सिस्टम के 2 रेजीमेंट तैनात करेगा.

NASAMS-2 मिसाइल डिफेंस सिस्टम

इस लेयर के लिए भारत अब अमेरिका से समझौता करने की तैयारी में है, यह मिसाइल डिफेंस सिस्टम छोटे हमलों से बचाव करेगा. यह इमारतों और शहर के बीच होने वाले हमलों को बर्बाद करने में सक्षम है. इसमें स्टिंगर्स, गन सिस्टम और अम्राम मिसाइल शामिल हैं.

Leave a Comment