fbpx
कर्नाटक में अब तक 13 कांग्रेस -जेडीएस विधायकों ने इस्तीफा दे दियाराज्य राजनीती ट्रेन्डिंग 

कर्नाटक में अब तक 13 कांग्रेस -जेडीएस विधायकों ने इस्तीफा दे दिया

कर्नाटक में कांग्रेस -जेडीएस गठबंधन सरकार खतरे में,अब बीजेपी बहुमत से सिर्फ एक कदम दूर

कर्नाटक न्यूज़ (Karnatak News ): कर्नाटक राज्य में इस समय कांग्रेस -जेडीएस गठबंधन सरकार अब खतरे में नज़र आ रही है, उसका मुख्य कारण यह है की अब तक राज्य में सत्ताधारी पार्टियों के 13 विधायकों ने अपना इस्तीफा दे चुके है. इनमें से 11 विधायक मुंबई के एक होटल में रुके है.अब तक इस्तीफा देने वाले 13 विधायकों में 10 विधायक कांग्रेस पार्टी के और 3 विधायक जेडीएस के है.इन 13 विधायकों के इस्तीफे देने के वजह से कर्नाटक विधानसभा के समीकरण पूरी बदलता हुआ दिखाई दे रहा है.हालाँकि की कर्नाटक विधानसभा स्पीकर ने अभी तक ये इस्तीफे स्वीकार नहीं किये है.फिलहाल, जो समीकरण बन रहे हैं उनमें बीजेपी बहुमत के आंकड़े से महज एक कदम दूर नजर आ रही है.

क्या है कर्नाटक विधानसभा का गणित ?

कर्नाटक राज्य में अब तक 225 सदस्यीय विधानसभा में गठबंधन सरकार के पक्ष में 118 विधायक थे.बहुमत के लिए जरुरी 113 विधायकों से कांग्रेस -जेडीएस गठबंधन सरकार 5 विधायक ज्यादा थी. इसमें कांग्रेस पार्टी के 79 विधायक और जेडीएस के 37 और तीन अन्य विधायक शामिल रहे हैं. यह तीन अन्य विधायक में से एक बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से, एक कर्नाटक प्रग्न्यवंथा जनता पार्टी (केपीजेपी) से और एक निर्दलीय विधायक है. विपक्ष में बैठी बीजेपी के पास 105 विधायक हैं.
अब ताज़ा माहौल की बात करे तो जेडीएस के 37 विधायकों में 3 विधायक और कांग्रेस पार्टी के 80 विधायकों में 10 विधायक ने इस्तीफा दे दिया है.तो अब जेडीएस के सदस्यों की संख्या ३४ और कांग्रेस के 70 विधायक, बसपा और निर्दलीय के एक-एक विधायक हैं. कांग्रेस और जेडीएस के मिलाकर अब 106 विधायक हैं, जिनमें बसपा और निर्दलीय विधायक भी शामिल है. यानी कांग्रेस-जेडीएस सरकार के पास बीजेपी से सिर्फ 1 विधायक अधिक है.अभी तक बसपा और निर्दलीय विधायक का कहना है कि वे कांग्रेस -जेडीएस गठबंधन सरकार के साथ हैं. मौजूदा हालात में इन दोनों विधायकों की भूमिका काफी अहम हो गई है. 224 विधायकों (स्पीकर के बिना) वाली कर्नाटक विधानसभा में 13 विधायकों के इस्तीफे के बाद सदस्यों की संख्या 211 हो गई है. लेकिन स्पीकर उनका इस्तीफा मंजूर करने में कुछ समय ले सकते हैं. अगर स्पीकर इन 13 विधायकों का इस्तीफा मंजूर करते हैं तो कुमारस्वामी की सरकार अल्पमत में आ जाएगी और वह फ्लोर टेस्ट पास नहीं कर पाएगी.

Leave a Comment