शिवसेना राज्यपाल से मिलेगी,अगर बीजेपी सरकार बनाने में असफल रही तो शिवसेना दावा करेगी.

महाराष्ट्र राज्य में चुनावो के नतीजों के बाद अभी तक नई सरकार बनाने को लेकर असमंजस बरक़रार है, बीजेपी और शिवसेना के बीच 50-50 का गतिरोध जारी हैं.

मुंबई न्यूज़ (Mumbai News): महाराष्ट्र राज्य में विधानसभा चुनावो के नतीजे आने बाद राज्य में नयी सरकार के गठन को लेकर अभी तक कोई भी फैसला नहीं हो पाया है. बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) दोनों पार्टियों के बीच 50 -50 के फार्मूले को लेकर गतिरोध जारी है. इस बीच शिवसेना ने दावा किया है की महाराष्ट्र में शिवसेना का ही मुख्मंत्री होगा और उसके पास 170 विधायकों का समर्थन है. शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने आज राज्यपाल से मिलने की भी योजना बना रहे हैं .

राज्यपाल के मुलाकात के बाद क्या कुछ हल निकल सकता है?

जानकारी के मुताबिक शिवसेना के नेता राज्यपाल के मुलाकात के दौरान राज्यपाल से राज्य में सबसे बड़े विपक्षी दल का सरकार बनाने का न्यौता देने की बात करेंगे. वही मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) आज दिल्ली में अमित शाह (Amit Shah) से मुलाकात करेंगे. दूसरी दिल्ली में आज शाम एनसीपी (NCP) प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) कांग्रेस (Congress) की अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से भी मिलेंगे.  शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा की बड़ी पार्टी होने के नाते बीजेपी (BJP) को सरकार बनाने के लिए दावा पेश करना चाहिए. लेकिन अगर वह इसमें नाकाम होते हैं, तो हम दावा करेंगे.’ आपको जानकारी के लिए बता दे की हाल ही में 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 105 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है और सहयोगी पार्टी शिवसेना को 56 सीटें मिली हैं. इस गठबंधन ने मिलकर आसानी से बहुमत का आंकड़ा 145 छू लिया है लेकिन शिवसेना ने अपनी एक शर्त रखी है की वह तभी नयी सरकार में शामिल होगी जब बीजेपी पार्टी लिखित तौर पर 50-50 वाले फार्मूले पर अपनी सहमति दे देगी. इस फार्मूले के मुताबिक ढाई साल बीजेपी का मुख्यमंत्री रहेगा तो ढाई साल शिवसेना का. शिवसेना पार्टी का कहना है की इस फार्मूले को लेकर लोकसभा चुनाव के दौरान शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) और अमित शाह के बीच सहमति बनी थी लेकिन अब बीजेपी और मौजूदा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इसे सिरे से ख़ारिज कर रहे है. अब देखना है की आने वाले समय में महाराष्ट्र के राजनीती में क्या-क्या उठा पटक होने वाला है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *