fbpx
Yuvraj Singh retired from international cricketखेल 

युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया

युवराज ने कहा 2011 वर्ल्ड कप जीतना जिंदगी का सबसे बड़ा लम्हा

स्पोर्ट्स न्यूज़ (Sports News): भारत को साल 2011 में का वर्ल्ड कप जिताने में एक अहम भूमिका निभाने वाले युवराज सिंह ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जीवन से संन्यास ले लिया. युवराज ने साल 2011 के वर्ल्ड कप में 9 मैच में 90.50 के औसत से 362 रन और 15 विकेट लिए थे. वह वर्ल्ड कप में प्लेयर ऑफ द सीरीज भी चुने गए थे. साल 2011 वर्ल्ड कप के दौरान युवराज कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे, लेकिन उन्होंने किसी को इस बात की जानकारी नहीं दिया. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वार्टर फाइनल से पहले डॉक्टरों ने उनको क्रिकेट नहीं खेलने की सलाह भी दिया था, लेकिन वह न सिर्फ मैदान में उतरे, बल्कि भारत की जीत के हीरो भी रहे. युवराज उस मैच में 57 रन की पारी खेली थी.

युवराज ने क्रिकेट में 17 अंतरराष्ट्रीय शतक बनाये

युवराज सिंह ने 40 क्रिकेट टेस्ट मैच की 62 पारियों में 33.92 के औसत से 1900 रन बनाए हैं. इसमें 3 शतक और 11 अर्धशतक भी हैं. युवराज ने 304 वनडे की 278 पारियों में 36.55 के औसत से 8701 रन बनाए. युवराज ने वनडे इंटरनेशनल में 14 शतक और 52 अर्धशतक लगाए हैं और 58 टी-20 इंटरनेशनल भी खेले. इसमें 28.02 के औसत से 1177 रन बनाए. युवराज ने टेस्ट क्रिकेट मैच  में 9, वनडे में 111 और टी-20 इंटरनेशनल में 28 विकेट भी लिए हैं.

युवराज ने अपने संन्यास के बारे में क्या कहा?

युवराज सिंह ने कहा की मैं अपने क्रिकेट से संन्यास के बारे में 2 साल से संन्यास पर मां और पत्नी से बात कर रहा था. युवराज के पिता योगराज सिंह ने कहा की जब कपिल देव को वर्ल्ड कप के लिए नहीं चुना गया होगा, तो उन्होंने क्या सोचा होगा, लेकिन जब तुमने वर्ल्ड कप जीता था, तब वह कितने खुश हुए होंगे. युवराज ने कहा की मेरे पिता को मेरे संन्यास लेने के फैसले पर कोई परेशानी नहीं हुई.

Leave a Comment