महाराष्ट्र के राजनीती में सत्ता के कुर्सी के चाह में शिवसेना फ़स गई.

महाराष्ट्र में सत्ता की कुर्सी के लिए शिवसेना ने NDA का साथ छोड़ा.

मुंबई न्यूज़ (Mumbai News): महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर सोमवार को दिनभर काफी खींचतान चली. वही दूसरी तरफ दिल्ली से लेकर मुंबई तक सरकार बनाने को लेकर कई राउंड हुई मीटिंग का भी दौर चला लेकिन अंत तक बात नहीं बन पाई. सत्ता के लिए शिवसेना (Shiv Sena) ने 30 साल पुरानी दोस्ती को तोड़कर भी महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने में सफल नहीं हो पाई. सत्ता के लिए शिवसेना ने मोदी कैबिनेट से अपने मंत्री अरविंद सावंत (Arvind Sawant) का इस्तीफा तक दिला दिया, लेकिन कई राउंड की मीटिंग करने के बावजूद कांग्रेस (Congress) और एनसीपी (NCP) ने शिवसेना को समर्थन पर अंतिम निर्णय नहीं लिया. महाराट्र के राज्यपाल ने रात के समय एनसीपी को ही सरकार बनाने का निमंत्रण दे दिया है.

महाराष्ट्र में होरहे राजनीती घटनाक्रम के बारे में

महाराष्ट्र राज्य में रविवार को बीजेपी (BJP) द्वारा राज्य में सरकार न बनाने के बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शिवसेना को सरकार बनाने के लिए कहा, जिसके बाद शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी से सरकार को सहयोग करने की बात कही और इस तरह शुरु हुआ सोमवार का असली राजनीती खेल.

मुंबई में सुबह 10.30 बजे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के आवास मातोश्री पर शिवसेना के वरिष्ठ नेताओं की बैठक हुई. उधर दिल्ली में भी 11 बजे कांग्रेस (Congress) वर्किंग कमेटी की बैठक हुई और इस बैठक में महाराष्ट्र के चुनाव प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने विधायकों की राय वाले पत्र सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को सौंपे. एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल (Praful Patel) ने पार्टी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) से मुंबई में 11:30 बजे मुलाकात किया. एनसीपी नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने बताया कि वह कांग्रेस के फैसले का इंतजार करेंगे. एनसीपी प्रमुख शरद पवार और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के दोपहर 1.30 बजे बीच बैठक हुई. शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) की तबीयत दोपहर ३.३० बजे  बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया. शाम 4 बजे दिल्ली में कांग्रेस की फिर बैठक हुई. इस बैठक में महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता भी शामिल हुए. हालांकि, शिवेसना को समर्थन पर कोई फैसला नहीं हो पाया.

 उद्धव ठाकरे के बेटे और आदित्य ठाकरे (Aaditya Thackeray) शिवसेना नेताओं के साथ राजभवन शाम 6:45 बजे पहुंचे और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की. इस बैठक आदित्य ठाकरे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और बताया कि राज्यपाल ने उन्हें ज्यादा समय देने से मना कर दिया है. आदित्य ने ये भी कहा कि उनका दावा अभी कायम है.

महाराट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने लेटर जारी किया और बताया कि शिवसेना ने सरकार बनाने की इच्छा जताई है, लेकिन समर्थन पत्र जमा नहीं कराए हैं. इसके बाद राज्यपाल ने एनसीपी को सरकार बनाने का निमंत्रण दिया. इसके बाद एनसीपी नेता अजित पवार (Ajit Pawar) राजभवन पहुंचे और सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए 24 घंटे का वक्त मांगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *