महाराष्ट्र में नयी सरकार के गठन को लेकर पवार ने कहा बीजेपी-सेना सरकार बनाये हम विपक्ष में बैठेंगे.

महाराष्ट्र में राकांपा प्रमुख शरद पवार ने कहा की भाजपा-शिवसेना बीते 25 साल से साथ हैं, आज या कल, वे साथ आएंगे.

मुंबई न्यूज़ (Mumbai News): महाराष्ट्र राज्य में नयी सरकार बनाने को लेकर अभी बयानबाजी अपने चरमस्तर पर जारी है. राकांपा प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा की बीजेपी-शिवसेना (BJP-Shiv Sena) को राज्य में जनादेश मिला है और उन्हें सरकार बनानी चाहिए. हमे तो विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला है.

राकांपा प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने शिवसेना-बीजेपी के विषय में और क्या कहा?

शरद पवार ने राज्य में शिवसेना-बीजेपी के बीच जारी गतिरोध के बारे में कहा की ‘शिवसेना और राकांपा की सरकार का सवाल ही कहां है. वे (भाजपा-शिवसेना) बीते 25 साल से साथ हैं, आज या कल, वे फिर से साथ आ जाएंगे. अब एक ही विकल्प है की बीजेपी-शिवसेना मिलकर नयी सरकार बनाये. राज्य में राष्ट्रपति शासन को दूर रखने का एकमात्र तरीका यही बचा है. आपको जानकारी के लिए बता दे की महाराष्ट्र राज्य में विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर आये थे, लेकिन अभी तक नयी सरकार बनाने को लेकर स्थिति साफ नहीं हुई है. शिवसेना और बीजेपी दोनों मुख्यमंत्री पद को लेकर अड़ी हुई हैं.

राकांपा प्रमुख शरद पवार से शिवसेना नेता संजय राऊत (Sanjay Raut) की मुलाकात

शिवसेना नेता संजय राऊत ने राकांपा प्रमुख शरद पवार से आज (बुधवार )को मुलाकात किया. इस मुलाकात के बारे में शिवसेना नेता संजय राऊत (Sanjay Raut) ने कहा की ‘पवार देश और राज्य के बड़े नेता हैं। वे महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात को लेकर चिंतित हैं। इसी संबंध में उनसे चर्चा हुई।’ आपको जानकारी के लिए बता दे इससे पहले संजय राऊत ने कहा था की “हमारी ओर से न तो कोई प्रस्ताव आएगा और न जाएगा, जो पहले तय हुआ था उसी पर बात होगी. ढाई-ढाई साल मुख्यमंत्री पद पर चुनाव से पहले सहमति बनी थी, उसी के मुताबिक गठबंधन हुआ था.’’

राकांपा ने कहा की राष्ट्रपति शासन की नौबत नहीं आएगी.

राकांपा के प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा की राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की नौबत नहीं आने देंगे. अगर शिवसेना ने तय किया तो हम महाराष्ट्र राज्य में एक वैकल्पिक सरकार दे सकते है. आपको बता दे की राजनीतिक गलियारे में इस बात की चर्चा जोरो पर है कि राकांपा, शिवसेना के साथ मिलकर राज्य में सरकार बना सकती है और कांग्रेस इसे बाहर से समर्थन दे सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *